mughal period part-7 Mughal Architecture in hindi

 जहांगीर के काल में मुगल स्थापत्य कला
  mughal period part-7 Mughal Architecture in hindi
  mughal period part-7 Mughal Architecture in hindi

अकबर का मकबरा आगरा के समीप सिकंदरा नामक स्थान पर यह गुंबद विहीन मकबरा है मकबरा आगरा में नूरजहां की देखरेख में और मुगल काल की पहली इमारत जिसमें पूर्णतय संगमरमर का प्रयोग किया गया है मुगल काल की पहली इमारत जिसमें पित्रादुरा अर्थार्थ संगमरमर में हीरे जवाहरात की सजावट की गई है जहांगीर का मकबरा लाहौर के समीप शहादरा नामक स्थान पर नूरजहां की देखरेख में बनाया गया था
शाहजहां के काल में मुगल स्थापत्य कला
शाहजहां का काल मुगल स्थापत्य का स्वर्ण काल माना जाता है शाहजहां को निर्माताओं का राजकुमार कहा जाता है शाहजहां द्वारा दिल्ली में निर्मित इमारतें दीवाने आम दीवाने खास अपने अंतिम दिनों में इसी भवन में कैद रहा
ताजमहल - ताजमहल का निर्माण 1631 से प्रारंभ हुआ और 1653 में पूर्ण हुआ कुल 22 वर्ष लगे ताजमहल का मुख्य वास्तुकार हमीद लाहौरी था जिसने जहांगीर ने नादिर उल असरार की उपाधि दी थी तथा ताजमहल का प्रधान मिस्त्री उस्ताद ईसा था जोकि मिस्र का निवासी था
दिल्ली में निर्मित इमारतें
शाहजहां ने 1638 में दिल्ली में शाहजहांनाबाद नामक नगर बसाया और इस नगर के भीतर ही लाल किले का निर्माण करवाया लाल किले का मुख्य वास्तुकार अहमद था लाल किले के निर्माण में धौलपुर के पत्थर का प्रयोग किया गया है शाहजहां ने लाल किले में दीवाने आम दीवाने खास रंग महल आदि इमारतों का निर्माण करवाया था बादल खान द्वारा बनाया गया तख्ते ताऊस मयूर सिहासन दीवाने आम में ही रखा हुआ था दीवान-ए-खास में फिर दोस्ती की पंक्तियां दुनिया में अगर कहीं स्वर्ग है तो यहीं है यहीं है यहीं है महल साम्राज्य का आरंभ था
जामा मस्जिद
शाहजहां ने 1644 में दिल्ली की जामा मस्जिद का निर्माण करवाया जो भारत की सबसे बड़ी मस्जिद मानी जाती है कुव्वत-उल-इस्लाम दिल्ली में भारत की प्रथम मस्जिद कुतुबुद्दीन ऐबक ने बनवाई थी
औरंगजेब के काल में स्थापत्य कला
औरंगजेब ने 1679 में अपनी पत्नी रबिया दुर्रानी का औरंगाबाद में मकबरा बनवाया जिसे बीबी का मकबरा और दक्षिण का ताजमहल भी कहा जाता है औरंगजेब ने दिल्ली के लाल किले में मोती मस्जिद का निर्माण करवाया था औरंगजेब ने लाहौर में बादशाही मस्जिद का निर्माण करवाया था
बाबरनामा में वीजाद नामक एक मात्र चित्रकार का उल्लेख मिलता है वीजाद को पूर्वी का राफेल कहा जाता है जहांगीर का काल मुगल चित्रकला का स्वर्ण काल कहा जाता है जहांगीर के दरबार में अबुल हसन उस्ताद मंसूर नादिर मोहम्मद मुराद Mohra आदि चित्रकार थे मंदसूर पशु पक्षियों के चित्रों का विशेषज्ञ था असंध व्यक्तिगत चित्रों का विशेषज्ञ था अबुल हसन ने जहांगीरनामा में मुख्य पृष्ठ पर जहांगीर का चित्र बनाया था का सबसे प्रसिद्ध चित्र साइबेरिया के सारस का चित्र है अकबर के दरबार में तानसेन बाज बहादुर और बैजू बावरा जैसे संगीतकार थे अकबर का सर्वश्रेष्ठ गायक था तानसेन का वास्तविक नाम राम तनु पांडे था अकबर से पहले तानसेन रीवा कालिंजर के राजा रामचंद्र के दरबार में था अकबर ने तानसेन को कंठ वाणी विलास की उपाधि दी इनके गुरु का नाम हरिदास था तानसेन ग्वालियर के सूफी संत मोहम्मद गौस के भी शिष्य थे शाहजहां के दरबार का मुख्य संगीतकार लाल खान था इसे लाल खान को गुण समुंदर की उपाधि दी थी

मुगल साहित्य
मुगल काल की राजभाषा फारसी थी अधिकांश ग्रंथों की रचना फारसी भाषा में ही हुई है
बाबरनामा - यह बाबर की आत्मकथा है जिसकी रचना बाबर ने तुर्की भाषा में की थी तुजुक ए बाबरी नाम से भी जाना जाता है इस का फारसी अनुवाद रहीम ने किया था बाबर ने बाबरनामा में 5 मुस्लिम और 2 हिंदू राजाओं का उल्लेख किया है
दिल्ली में इब्राहिम लोदी, गुजरात में मुजफ्फर, मालवा में, बंगाल में नमरुत शाह, बहमनी से कली मुला शाह, मेवाड़ में राणा संग्राम सिंह, विजय नगर में कृष्णदेवराय बाबर के अनुसार भारत का सबसे शक्तिशाली शासक कृष्णदेव राय था
तारीख ए रसीदी मिर्जा Haider बाबर का चचेरा भाई द्वारा लिखी गई
Previous
Next Post »

Feedback Of Trump On Supporting The Saudi Sovereign Over Khashogi's Brutal Assassination

Criticism Of Trump On Supporting The Saudi Sovereign Over Khashogi's Brutal Assassination (Lalit K. Jha) Washington, November 21...