mughal period part-6 Mughal administration

 मुगल प्रशासन
 mughal period part-6 Mughal administration
 mughal period part-6 Mughal administration

विजारत मंत्री परिषद
वजीर प्रधानमंत्री
मुगल काल में वजीर को वकील भी कहा जाता था बाबर का वजीर निजामुद्दीन खलीफा था हिमायू का प्रधान-मंत्री हिंदू बैग था शाहजहां ने वजीर पद को समाप्त कर दिया था
दीवान - वित्त विभाग का प्रमुख
दीवान पद का सृजन अकबर ने अपने राज्य रोहन के 8 वें वर्ष अर्थार्थ 1564 में किया था इस पद पर पहली नियुक्ति मुजफ्फर खान को दी गई यह मुगल काल का प्रथम दीवान मुजफ्फर खान था अकबर के काल का प्रसिद्ध दीवान टोडरमल था जहांगीर के काल में मिर्जा ग्यास बेग दीवान था औरंगजेब के काल में असद खान दीवान था असद खान मुगल काल में सर्वाधिक लंबे समय तक दीवान पद पर रहा था
मीर बख्शी - सैनिक विभाग का प्रमुख मनसबदारी व्यवस्था का संचालन करता
खानसामा - दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने वाला अधिकारी
सदर उल सदूर - धर्म और दान विभाग का प्रमुख
अकबर ने इस पद पर सर्वप्रथम शेख गदाई को नियुक्त किया था अकबर ने अब्दुल नबी नामक सदर को भ्रष्टाचार के कारण पद से हटा दिया था
काजी उल कुजात - न्याय विभाग का प्रमुख
दरोगा ए डाक चौकी - गुप्त विभाग का प्रमुख
मीर ए आतिश - तोपखाने विभाग का प्रमुख
मीर ए बहर - जल सेना विभाग का प्रमुख
मीर ए अर्ज - बादशाहा तक जनता के आवेदन पहुंचाने वाला
प्रांतीय शासन
मुगल काल में प्रांतों को सुबा कहा जाता था सूबे के प्रमुख को सूबेदार कहा जाता था आइन ए अकबरी के अनुसार अकबर के काल में सूबे की संख्या 12 थी जहांगीर के काल में संख्या 15 हो गई शाहजहां के काल में संख्या बढ़कर 18 हो गई तथा औरंगजेब के काल में 21 हो गई
सैन्य संगठन
अहदी - बादशाह के निजी सैनिक जो बादशाह के नियंत्रण में रहते थे
दाखिला - बादशाह के सैनिक जो मनसबदारी के नियंत्रण में रहते थे
एहसाम - अस्त्र-शस्त्र और युद्ध संचालन के लिए पूर्व सैनिकों को कहा जाता था
सेहबंदी - युद्ध संचालन में निपुण न होने के कारण भू राजस्व की वसूली करने में सहयोग करने वाले सैनिको को कहा जाता था
मुगल काल में भारी तोपों को जिंसी और हल्की तोपों को दस्ती कहा जाता था अकबर ने 1575 में मनसबदारी व्यवस्था को लागू किया था मनसब शब्द का अर्थ पद-प्रतिष्ठा या रेक होता है अबुल फजल के अनुसार मन सरदारों की 33 श्रेणियां की सबसे छोटा 10 और सबसे बड़ा 10000 का था लेकिन अकबर ने अपवाद स्वरुप शहजादा सलीम को 12000 का मनसब प्रदान किया था 5000 से ऊपर के मनसब केवल शहजादों को ही दिए जाते थे केवल मानसिंह और मिर्जा अजीज कोका को गैर शहजादे होते हुए भी 7000 का मंत्र प्रदान किया गया था जहांगीर ने मनसबदारी व्यवस्था के अंतर्गत अस्पा और दो अस्पा का नियम लागू किया था
शाहजहां ने मनसबदारी व्यवस्था में मशरूफ मनसबदारी प्रथा को लागू किया था उपस्थित रहने वाली मनसबदारी को हाजिर रकाब तथा प्रांतों में नियुक्त मनसबदार को तनातिया कहा जाता था
मुगल स्थापत्य कला
बाबर ने पानीपत और संभल की मस्जिदों का निर्माण करवाया अयोध्या में बाबरी मस्जिद इसका निर्माण अकबर के सेनापति मीर बाकी ने करवाया था
हिमायू ने दिल्ली में दीनपनाह नामक भवन का निर्माण करवाया था
शेरशाह ने दिल्ली में किला ए कुहना नामक मस्जिद का निर्माण करवाया था और सासाराम बिहार में अपना मकबरा बनवाया था
अकबर - हिमायू का मकबरा अकबर के काल की प्रथम इमारत थी इसका मुख्य वास्तुकार मिर्जा मीरक था यह मुगल काल का प्रथम मकबरा है जो चारबाग पद्धति पर निर्मित है दोहरे गुंबद का प्रयोग किया गया है इस मकबरे में मुगल राज घराने के सर्वाधिक सदस्य हिमायू के मकबरे में ही दफनाए गए हैं मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर को अंग्रेज सेनापति द्वारा हुमायूं के मकबरे से ही गिरफ्तार किया गया था अकबर द्वारा निर्मित प्रमुख किले इलाहाबाद का किला लाहौर का किला कटक उड़ीसा का किला अजमेर का किला अकबर द्वारा निर्मित किलो का मुख्य वास्तुकार कासिम खान था
फतेहपुर सीकरी
अकबर ने 1570 में फतेहपुर सीकरी नामक नगर बसाया इस नगर का मुख्य वास्तुकार बहाउद्दीन शाह फतेहपुर सीकरी में निर्मित प्रमुख इमारतें दीवाने आम दीवाने खास बीरबल महल पंच महल जोधाबाई का महल फतेहपुर सीकरी की सबसे बड़ी इमारत है तुर्की सुल्तान का महल जामा मस्जिद फतेहपुर सीकरी की सबसे सुंदर इमारत है बुलंद दरवाजा अकबर ने इसका निर्माण गुजरात विजय की याद में यह दरवाजा बनवाया था यह भारत का सबसे ऊंचा दरवाजा है इसकी ऊंचाई 176 फीट है
शेख सलीम चिश्ती का मकबरा
अकबर ने इसे लाल पत्थर से बनवाया था लेकिन जहांगीर ने इसे तुडवा कर सफेद संगमरमर से बनवाया और फतेहपुर सीकरी की यह एकमात्र इमारत है जो सफेद संगमरमर से बनी हुई है इबादत खाने का निर्माण भी फतेहपुर सीकरी में अकबर ने ही करवाया था 1576 में इसका निर्माण करवाया गया


Previous
Next Post »

Sell My Pension You Have and Get £1000's Cash

Have you at any point asked yourself; "Would i be able to offer my annuity for CASH?" YES you could offer your benefits or trade ...